Category Archives: ज्योतिष तत्व

ज्योतिष के २७ नक्षत्र और उनके ९ स्वामी



ज्योतिष में 27 नक्षत्र जिनके स्वामी 9 ग्रह हैं-

क्र सं0 नक्षत्र स्वामी
1.अशिवनीकेतु
2.भारिणी शुक्र
3.कृतिकासूर्य
4.रोहिणीचन्द्रमा
5.मृगशिरामंगल
6.आर्द्राराहु
7.पुनर्वसु गुरु
8.पुष्य शनि
9.आश्लेषाबुध
10.मघाकेतु
11.पुर्वफाल्गुनीशुक्र
12.उतरा फाल्गुनीसूर्य
13.हस्तचन्द्रमा
14.चित्रामंगल
15.स्वातिराहु
16.विशाखागुरु
17.अनुराधाशनि
18.ज्येष्ठाबुध
19.मूल केतु
20.पूर्वाषाढ़ाशुक्र
21.उतराषाढ़ासूर्य
22.श्रवणचन्द्रमा
23.धनिष्ठा मंगल
24.शतभिषा राहु
25.पूर्वाभाद्रपदगुरु
26.उतरा भाद्रपदशनि
27.रेवतीबुध

 

सरलीकरण के लिए इसे निम्न प्रकार समझ सकते हैं।

क्रम सं०ग्रहनक्षत्रनक्षत्र का क्रम
1.केतुअशिवनी, मघा, मूल१/१०/१९
2.शुक्रभरिणी, पू० फा०, पू० षाढ़ा२/११/२०
3.सूर्यकृतिका, उ० फा०, उ० षाढ़ा३/१२/२१
4.चन्द्रमारोहिणी, हस्त, श्रवण४७/१३/२२
5.मंगल मृगशिरा, चित्रा, श्रवण५/१४/२३
6.राहुआर्द्रा, स्वाति, शतभिषा६/१५/२४
7.गुरु पु० व०, विशाखा, पू० भाद्र०७/१६/२५
8.शनिपुष्य, अनुराधा, उ० भाद्र०८/१७/२६
9.बुध आश्लेषा, ज्येष्ठा, रेवती९/१८/२७

राशि के क्रम में नक्षत्र

क्रम सं०राशिनक्षत्र
1.मेषअशिवनी-भरणी-कृतिका का १ चरण
2.वृष कृतिका ३ चरण, रोहिणी, मृगशिरा २ चरण
3.मिथुनमृगशिरा २ चरण, आर्द्रा, पु० वसु ३ चरण
4.कर्कपु० वसु १ चरण, पुष्य, आश्लेषा
5.सिंहमघा, पू० फाल्गुनी, उ० फाल्गुनी १ चरण
6.कन्याउ० फा० ३ चरण, हस्त, चित्रा १ चरण
7.तुलाचित्रा २ चरण, स्वाती, विशाखा ३ चरण
8.वृशिचकविशाखा १ चरण, अनुराधा, ज्येष्ठा
9.धनुमूल, पू० षाढ़ा उ० षाढा़ १ चरण
10.मकरउ० षाढ़ा ३ चरण, श्रवण, धनिष्ठा २ चरण
11.कुंभधनिष्ठा २ चरण, शतभिषा, पू० भाद्र ३ चरण
12.मीनपू० भाद्र १ चरण, उ० भाद्रपद, रेवती

बारह राशियां


12-signs

बारह राशियां निम्न प्रकार की है -

 

क्रम सं0 राशि नामसंकेतों परस्वामीसंक्षिप्ताक्षर
1.मेषमें०मेषमं०
2.वृषवृ०वृषशु०
3.मिथुनमिं०मिथुनबुं०
4.कर्कक०कर्कचं०
5.सिंहसिं०सिंहसू०
6.कन्याक०कन्याबु०
7.तुलातु०तुलाशु०
8.वृशिचक वृ०वृशिचकमं०
9. धनुध०धनुगु०
10.मकरम०मकरश०
11.कुंभकु०कुंभश०
12.मीनमी०मीनगु०



Powered By Indic IME